गम और दारू🙏

कुछ लोग पीते हैं नशा चढ़ाने के लिए,🌹 कुछ लोग पीते हैं गम को भुलाने के लिए,,🌹

जाने क्यों दुनिया कहती है शराब को बुरा,🌹 हम तो शराब पीते हैं मुस्कुराने के लिए!!🌷

🌹🌹🙏🙏

4 thoughts on “गम और दारू🙏

  1. मैं ख़राब हूँ, तो ज़माने को ख़राब कैसे कह दूँ !
    होश बाक़ी है अब तक, उसे शराब कैसे कह दूँ !

    मेरे दिल को पता है अपनी औकात की हद यारो,
    फिर चाहतों को उसकी, बेहिसाब कैसे कह दूँ !

    जिंदगी भर करता रहा जो गलतियां ही गलतियां,
    भला उसके वज़ूद को, यूं लाज़बाब कैसे कह दूँ !

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.